चुनौती : पांच दिन में रखा 33 हजार शौचालय बनाने का लक्ष्य

बरेली : गांवों में शौचालय निर्माण को लेकर अधिकारी परेशान हो गए हैं. मौजूदा समय में स्थिति यह है कि महज 5 दिन में 33 हजार शौचालय बनाने का दबाव बनाया जा रहा है. जो अफसर और कर्मचारियों के लिए बेहद चुनौती पूर्ण है. इसे लेकर ग्राम पंचायत स्तर तक के जिम्मेदार परेशान हैं.

14 अप्रैल से 18 अप्रैल तक 33 हजार शौचालय निर्माण कराने का लक्ष्य दिया गया है. जिलाधिकारी वीरेन्द्र कुमार सिंह व मुख्य विकास अधिकारी सत्येन्द्र कुमार ने ब्लाको के नोडल अधिकारियों, खण्ड विकास अधिकारियों, स्वच्छाग्रही, गांव के नोडल सफाई कर्मी, रोजगार सेवक, एडीओ पंचायत को 5-5 ब्लाको की चरणवद्ध बैठक कर शौचालय निर्माण की रणनीति बताई.

जिलाधिकारी ने कहा कि यह महायक्ष है, जिलें को ओडीएफ बनाना है. इसमें सभी अधिकारियों, कर्मचारियों की अहम भूमिका होगी. उन्होंने कहा कि कार्य का प्रतिदिन का मूल्याकंन कराया जाएगा. इसके लिये विकास भवन में कंट्रोल रुम बनाया गया है.

गांवों में दिखाई जायेगी फिल्म

डीएम ने कहा कि अच्छा कार्य करने वाले कर्मचारियों को पुरस्कृत किया जायेगा. साथ ही आमजन को शौचालय बनाने हेतु ‘‘टायलेट एक प्रेम कथा‘‘ नाम की फिल्म भी गांव के लोगों को दिखायी जायेगी. मुख्य विकास अधिकारी सत्येन्द्र कुमार ने बताया कि 33 हजार शौचालय के लाभार्थियों में से 20 हजार लाभार्थियों के खाता नंबर मिल गए है.

मुख्य विकास अधिकारी ने कहा कि टीम भावना से कार्य करें और शाम को फिल्म, गीत नाट्य के माध्यम से लोगों को प्रोत्साहित करे.

बनाया गया जाब चार्ट

33 हजार शौचालय निर्माण को पूर्ण करने के लिए कर्मचारियों का जाब चार्ट बनाया गया है. सफाई कर्मी का कार्य शौचालय विहीन परिवारों के घरों पर (×) लाल निशान लगाने, रोजगार सेवक का कार्य राज मिस्त्री व मजदूर के साथ समन्वय रखते हुए मैन पावर पूरा करने आदि का है.

नोडल अधिकारी का कार्य मानक के अनुसार पर्यवेक्षण करना, डेली रिपोटिंग, टीम बनाकर समस्याओं का निस्तारण करना, लक्ष्य पूर्ति हेतु स्वीकृति पत्र वितरण करना आदि रखा गया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *