अयोध्या मसला सुलझाने बरेली पहुंचे श्री श्री रविशकंर के लिए नहीं खुला इस्लामी मदरसे का गेट

बरेली. बरेली में आईएमसी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मौलाना तौकीर रज़ा से मिलने पहुंचे श्री श्री रविशंकर को बरेली के इस्लामी मदरसे में नहीं घुसने दिया गया.

15 मिनट मदरसा के गेट पर खड़े रहने के बाद वह अलखनाथ मंदिर के लिए रवाना हो गए.

प्रेसकांफ्रेंस में एक सबाल के दौरान उनके सीरिया वाले बयान के बारे में जब पूछा गया तो उन्होंने कहा कि हम अमन चाहते है और किसी को धमकी नहीं दे सकते.

उन्होंने कहा कि अयोध्या में राम मंदिर है और बनना चाहिए. हालाँकि उन्होंने मस्जिद बनाने कि बात भी कही.

श्रीश्री रविशंकर ने कहा कि कोर्ट के बाहर दोनों पक्षों का बैठना बहुत जरूरी है. हम नहीं चाहते कि मिडिल ईस्ट की तरह यहां भी किसी मुद्दे को लेकर हालात इतने खराब हो जाएं. शांति का यही पैगाम लेकर दरगाह आला हजरत आए हैं और कामना की है हमारे देश में अमन कायम रहे.

बतादें कि इससे पहले उन्होंने दरगाह पर हाजिरी दी और चादर चढ़ाई.

वही मौलाना तौकीर रज़ा ने कहा कि कुछ लोग ऐसे है जो मंदिर मस्जिद के नाम पर देश का माहौल बिगड़ना चाहते है.
उन्होंने कहा कि हम दोनों अपने अपने पक्षों को बैठकर बातचीत करे. मै यह नहीं चाहता कि एक का दिल तोड़कर दूसरा खुशिया, जश्न मनाये. उन्होंने कहा कि श्री श्री इसी काम के लिए निकले है.

मौलाना से जब राम मंदिर बनने के बारे में पूछा गया तो मौलाना ने कहा कि यह सवाल मुझसे नहीं करना चाहिए. उन्होंने कहा कि जो दो से 282 तक पहुंच गए और 382 तक भी पहुंचना चाहेंगे. वह इस मसले का हल नहीं चाहते है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *