Video: न फेरे न सिंदूर पैसों का लालच देकर BJP के इस मंत्री के सामने शादीशुदा जोड़ों का करा दिया सामूहिक विवाह

बरेली. प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सामूहिक विवाह योजना को अफसरों ने मजाक बनाकर रख दिया है. सीएम चाहते है कि गरीब कन्याओ के हाथ पीले किये जा सके.

जिससे उनके पिता को अपनी बेटी बोझ न लगे. लेकिन अफसरों की लापरवाही की वजह से योगी की इस महत्वाकांक्षी योजना पर पानी फिरता नजर आ रहा है.

बरेली में बिना जांच पड़ताल कई शादीशुदा जोड़ो का विवाह करा दिया. बताया जाता है कि अनुदान का लालच देकर उन्हें शादी के लिए बुलाया गया था.

15 जोड़ों में कई थे शादीशुदा

बरेली के आंवला इलाके में शनिवार को मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह कार्यक्रम का आयोजन कराया गया. सामूहिक विवाह योजना में कुल 15 जोड़े शामिल हुए थे.

इनमे से ज्यादातर ऐसे जोड़े थे जो पहले से शादीशुदा थे या फिर ऐसे जिनकी शादी की अभी तारीख भी तय नहीं हुई है. सामूहिक विवाह के नाम केबिनेट मंत्री धर्मपाल सिंह के सामने सिर्फ रस्मअदायगी की गई. सभी जोड़ो ने एक दूसरे को जयमाल पहनाई और बस हो गई शादी.

न तो अग्नि को साक्षी मानकर सात फेरे लिए गए और न ही मांग में सिंदूर भरा गया. मंगलसूत्र पहनाये बिना ही शादी की रस्म पूरी करा दी गई. इस दौरान कई महिलाओं की तो पहले से ही मांग भरी हुई थी. इस सामूहिक विवाह में चार मुश्लिम जोड़े भी शामिल हुए जिन्हे निकाह भी नहीं पढ़ाया गया.

जानिये क्या कहते हैं जोड़े

किसी की शादी 18 फरवरी को तो किसी की 20 फरवरी को हो चुकी है. कई जोड़ो की शादी तय हो गई है. लेकिन शादी की तारीख तय नहीं हुई. जब उनसे पूछा गया की शादी कब होगी तो उनका कहना था की होली बाद.

जानिये क्या बोले मंत्री

सिचाई मंत्री धर्मपाल ने बात को हंसते हुए टाल दिया. उन्होंने कहा कि कोई बात नहीं शादी तो हुई है. शर्मनाक बात तो यह है कि जब अफसर जनता का काम नहीं करते तो जनता जनप्रतिनिधि से मदद मांगती है.

लेकिन यहाँ सबकुछ एक मंत्री के सामने हुआ और उन्होंने जोड़ों को आशीर्वाद भी दिया.

क्या है सामूहिक विवाह

मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना में शादी का पूरा खर्च सरकार उठा रही है. इसके अलावा लडकी को 20 हजार रुपये नकद, 10 हजार रुपये का सामान भी दिया जाने का प्राविधान हैं.

5 हजार रुपये व्यवस्था पर खर्च के लिये हैं. इसके आलावा अन्य खर्चे भी सरकार करती है. जिले में 476 लडकियों की शादी मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना में करने का लक्ष्य मिला है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *