बरेली के कालेज में छात्रवृत्ति घोटाला, नोटिस देख प्रबंधन में मचा हडकंप

बरेली. शिक्षा के नाम पर लूट के रोज नए-नए कारनामे सामने आ रहे हैं. ऐसा की एक मामला बरेली के ज्योति कालेज में सामने आया है. कालेज प्रबंधन ने एक छात्र का गलत कोर्स में एडमीशन दर्शाकर तीन साल की स्कॉलरशिप निकाल ली.

पीड़ित छात्र को मामले की जानकारी उस समय लगी जब उसने मेरठ के एक कालेज में बीएड में दाखिला लिया, जानकारी लगने पर मेरठ के कालेज ने उसका दाखिला कैंसिल कर दिया है.

जानिये कैसे किया घोटाला

बरेली के कटरा चांद खां निवासी मुकेश ग्वाल ने शहर के ज्योति कालेज में सत्र 2013-14 में बीसीए में दाखिला लिया था. छात्र ने तीनों साल यहां पढ़ाई करके अपनी बीसीए की पढ़ाई पूरी की. लेकिन कालेज प्रबंधन ने उनकी स्कॉलरशिप और शुल्क प्रतिपूर्ति हड़पने के लिए ऑनलाइन प्रणाली में बीबीए कोर्स दर्ज कर दिया.

इससे उनकी तीनों साल की स्कॉलरशिप कालेज हजम कर गया. छात्र ने इस सत्र में कृष्ण कालेज ऑफ एजुकेशन सिघाबली अहीर बागपत में दाखिला लिया. जब छात्र ने स्कॉलरशिप के लिए आवेदन किया तो मामला पकड़ में आया.

ज्याति कालेज प्रशासन ने स्कॉलरशिप के अभिलेख में इनकी वर्ष 2013-14 में बीबीए प्रथम, वर्ष 2014-15 में बीबीए द्वितीय और वर्ष 2016-17 में पुन: बीबीए प्रथम वर्ष दर्शाकर स्कॉलरशिप और फीस प्रतिपूर्ति निकाल ली.

स्कॉलरशिप सत्यापन में बीबीए करने का मामला सामने आने पर कालेज प्रबंधन ने इनके दाखिले पर आपत्त्ति लगा दी. छात्र का आरोप है कि स्कॉलरशिप फार्म भरने की जानकारी ज्योति कालेज प्रबंधन ने उनको नहीं दी थी.

छात्र की शिकायत पर एडीएम सिटी ओपी वर्मा ने संज्ञान लिया. उन्होंने कालेज प्रबंधन को नोटिस जारी कर बुधवार को छात्र केओरिजनल दस्तावेजों के साथ कार्यालय में उपस्थित होने का आदेश दिया है. छात्र का कहना है कि अब कालेज प्रबंधन द्वारा फैसले का दवाब बनाया जा रहा है.

जाँच कर होगी कड़ी कार्रवाई

एडीएम सिटी ओपी वर्मा ने बताया कि ज्योति कालेज में गलत कोर्स दर्शाकर स्कॉलरशिप निकालने का मामला सामने आया है.

कालेज प्रबंधन को पत्र भेजकर ओरिजनल फाइल के साथ बुधवार को कार्यालय में उपस्थित होने को कहा गया है. समाज कल्याण विभाग को भी स्कॉलरशिप संबंधी जांच के लिए भी पत्र भेजा है. कालेज प्रबंधन अगर दोषी पाया जाता है तो उसके विरुद्घ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *